KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

विधवा पर कविता

0 309

विधवा पर कविता

सफेद साड़ी में लिपटी विधवा
आँसुओं के चादर में सिमटी विधवा
मनहूस कैसे हो सकती है भला

अपने बच्चों को वह विधवा
रोज सबेरे जगाती है
उज्जवल भविष्य कीf करे कामना
प्रतिपल मेहनत करती है
सर्वप्रथम मुख देखे बच्चे
सफलता की सीढ़ी चढ़ते हैं
समझ नहीं आता फिर भी
मनहूस उसे क्यूँ कहते हैं

बेटी के लिए ढूँढें वर वह
शादी का जोड़ा लाती है
बिंदी, चूड़ी, सिंदूर भी वह
स्वयं खरीद कर लाती है
अखंड सुहाग की करे कामना
बेटी का ब्याह रचाती है
हाथों से अपने करे विदा
फिर भी मनहूस कहलाती है

बिंदी, चूड़ी, रंगीन वसन से
वह पहले भी सजती थी
बिछुवा, सेंदुर, कालिपोत
शादी के बाद उसे मिली थी
रहा नहीं सुहाग सही है
सुहाग निशानी बस उतरेंगी
बिंदी, चूड़ी, रंगीन वसन तो
वह पहले से पहनी थी
परंपराओं के नाम पर
प्रतिपल मरती स्त्री थी

धिक्कार है ऐसी छोटी सोच पर
थू-थू ऐसे इंसानों पर
नियति के क्रूर सितम के आगे
वह नतमस्तक हो रोती है
कर ना सको यदि दुःख कम उसका
ऐसे ताने भी तुम मत दो
नियति की नियति क्या जानो
आज है उसकी कल अपनी मानो

हाथ जोड़कर करूँ प्रार्थना
हे समाज के ठेकेदारों
थोड़ा आगे बढ़कर देखो
सुंदर सपनों को गढ़ कर देखो
कर ना सको सहयोग अगर तुम
ताने देकर दिल ना तोड़ो
——————————————
वर्षा जैन “प्रखर”
दुर्ग (छत्तीसगढ़)

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.