KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

समय का चक्र डॉ. पुष्पा सिंह’प्रेरणा’ की कविता

0 165

समय का चक्र

चिता की लकड़ियाँ,
ठहाके लगा रही थीं,
शक्तिशाली मानव को निःशब्द जला रही थीं!

रोकती रही मैं मगर सताता रहा
ताकत पर अपनी इतराता रहा!

भूल जाता बचपन में तुझे

खिलौना बन रिझाती रही,
थक जाता जब रो-रो कर
पलना बनकर झुलाती रही!

बुढ़ापे में असमर्थ हुआ तो
लाठी बनकर चलाती रही,
जीवन के संसाधनों में तेरे
हरदम काम आती रही!

देख समय का चक्र कैसे चलता है
निःसहाय हो मानव तू भी
एक दिन जलता है!

मेरी चेतावनी है,मुझे पलने दे,
पुष्पित,पल्लवित होकर फलने दे!

वृक्ष का मित्र बनकर
जीने का अधिकार दे,
प्यार से जीना सीख!
मुझे भी स्नेह,दुलार दे!

डॉ. पुष्पा सिंह’प्रेरणा’

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.