प्रात: वन्दन – हरीश बिष्ठ शतदल

प्रेरणादायक कविता
प्रेरणादायक कविता

प्रात: वन्दन

करे अमंगल को मंगल,
पवनपुत्र हनुमान |
सम्मुख उनके आने से ,
डरें सभी शैतान ||

हृदय बसे सिया-राम जी,
श्रद्धा-भक्ति अपार |
शिवजी के बजरंगबली ,
जग में रूद्र अवतार ||

संकट सारे भक्तों के ,
पल में देते टार |
भजे सिया अरु राम संग़,
यह सारा संसार ||

भक्तों में सर्वश्रेष्ठ हैं ,
राम भक्ति आधार |
श्रीचरणों में हनुमत के ,
नमन करूँ हर बार ||

हरीश बिष्ट “शतदल”
रानीखेत || उत्तराखण्ड

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page