Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

वृध्दों पर दोहे- सुधा शर्मा

0 277

वृध्दों पर दोहे

बूढ़ा बरगद रो रहा, सूख गये सब पात।
अपनों ने ही मार दी,तन पर देखो लात।।

दिया उमर भर आज तक,घनी सभी को छाँह।
भूल गये सब कृतज्ञता,काट रहे हैं बाँह।।

ढूंढ रहा है देख लो,बेबस अपनी छाँव।
आया कैसा हैसमय,बीच धार है नाव।।

CLICK & SUPPORT

मात पिता सम वट समझ ,रखो सदा ही ध्यान ।
शक्ति पुंज बनते सदा,मत करना अपमान।। 

बेबस कर मत छोड़िए, हैं ये झरते फूल।
पीड़ा इनकी जानिए,नहीं चुभाओ शूल।।

छाया वृद्धों का मिले,बरसे नेह दुलार ।
आदर मीठे बोल से,चहके घर संसार।।

सुधा शर्मा
राजिम छत्तीसगढ़
10-4-2019
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

Leave A Reply

Your email address will not be published.