सुख-दुख की बातें बेमानी

0 554

सुख-दुख की बातें बेमानी

कविता संग्रह
कविता संग्रह

( १६ मात्रिक )

मैने तो हर पीड़ा झेली,
सुख-दुख की बातें बेमानी।

दुख ही मेरा सच्चा साथी,
श्वाँस श्वाँस मे रहे संगाती।
मै तो केवल दुख ही जानूं,
प्रीत रीत मैने कब जानी,
सुख-दुख की बातें बेमानी।

साथी सुख केवल छलना है,
मुझे निरंतर पथ चलना है।
बाधाओं से कब रुक पाया,
जब जब मैने मन में ठानी,
सुख-दुख की बातें बेमानी।

अवरोधक है सखा हमारे,
संकट बंधु पड़ोसी सारे।
इनकी आवभगत कर देखे,
कृत्य सुकृत्य हितैषी मानी,
सुख-दुख की बातें बेमानी।

विपदाएँ ही अच्छी लगती,
मेरा एकाकी पन हरती।
स्वाँस रक्त दोनों ही मैने,
देशधरा की सम्पद जानी,
सुख-दुख की बातें बेमानी।

मन में सुख-दुख का जोड़ा है,
दुख ज्यादा है सुख थोड़ा है।
दुख में नई प्रेरणा मिलती,
सुख की सोच मान नादानी,
सुख-दुख की बातें बेमानी।
__________
बाबू लाल शर्मा,बौहरा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy