Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

सुसंस्कृत मातृभाषा दिवस पर कविता

0 471

मातृभाषा दिवस पर कविता

अपनी स्वरों में मुझको ‘साध’ लीजिए।
मैं ‘मृदुला’, सरला, ले पग-पग आऊँगी।।

हों गीत सृजित, लयबद्ध ‘ताल’ दीजिए।
मधुरिमा, रस, छंद, सज-धज गाऊँगी।।

इन्हें भी पढ़ें

CLICK & SUPPORT

सम्प्रेषित ‘भाव’ सतत समाहित कीजिए।
अभिव्यंजित ‘माधुर्य’, रंग-बिरंगे लाऊँगी।‌।

‘मातृभाषा’ कर्णप्रिया, ‘सुसंस्कृत’ बोलिए।
सर्व ‘हृदयस्थ’ रहूँ, ‘मान’ घर-घर पाऊँगी।।


शैलेंद्र नायक ‘शिशिर’

Leave A Reply

Your email address will not be published.