kavita-bahar
kavita-bahar

थाम लो सँभालकर देश की मशाल को

थाम लो सँभालकर देश की मशाल को हिन्द के बहादुरो शूरवीर बालको!थाम लो सँभाल कर देश की मशाल को! अन्धकार का गरूर आन-बान तोड़ दो,बालको, भविष्य के लिए मिसाल छोड़…

0 Comments
भारत देश तिरंगा झंडा
भारत देश तिरंगा झंडा

हिंदी कविता-ज्योति यह जले

ज्योति यह जले सूत्र संगठन सँभाल, ज्योति यह जले।कोटि-कोटि दीप-माल ज्योति यह जले। राष्ट्र अंधकार के विनाश के लिए,चिर अतीत के धवल प्रकाश के लिए।बुद्धि के, विवेक के विकास के…

0 Comments
भारत देश तिरंगा झंडा
भारत देश तिरंगा झंडा

हिंदी कविता-जन्म चाहिए प्यारे हिन्दुस्तान में

जन्म चाहिए प्यारे हिन्दुस्तान में एक हमारी छोटी विनती, भगवन ! रखना ध्यान में,हमें हमेशा पैदा करना, प्यारे हिन्दुस्तान में ॥ सिर पर है हिम मुकुट सलोना, कंठहार गंगा-यमुना,हरियाली की…

0 Comments
भारत देश तिरंगा झंडा
भारत देश तिरंगा झंडा

हिंदी संग्रह कविता-न यह समझो कि हिन्दुस्तान की तलवार सोई है

न यह समझो कि हिन्दुस्तान की तलवार सोई है न यह समझो कि हिन्दुस्तान की तलवार सोई है। जिसे सुनकर दहलती थी कभी छाती सिकंदर की,जिसे सुनकर कि कर से…

0 Comments
भारत देश तिरंगा झंडा
भारत देश तिरंगा झंडा

हिंदी संग्रह कविता-खून दिया है मगर नहीं दी कभी देश की माटी है

खून दिया है मगर नहीं दी कभी देश की माटी है युगों-युगों से यही हमारी बनी हुई परिपाटी है,खून दिया है, मगर नहीं दी कभी देश की माटी है। इस…

0 Comments
भारत देश तिरंगा झंडा
भारत देश तिरंगा झंडा

हिंदी संग्रह कविता-दुश्मन के लोहू की प्यासी भारत की तलवार है

दुश्मन के लोहू की प्यासी भारत की तलवार है अरे! तुम्हारे दरवाजे पर दुश्मन की ललकार हैभारत की रणमत्त जवानी, चल क्या सोच विचार है।राणा के वंशजो, शिवा के पूतो,…

0 Comments