KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

भावना संबंधी रचना

मैं कौन हूं?कविता(श्रीमती पदमा साहू)

मैं कौन हूं मैं कौन हूं, कहाँ से आयी? किस कारण जन्म हुआ मेरा विचारती हूं। ईश्वर के हाथों बंधी कठपुतली मैं, सृजनकार की अमूल्य कृति हूं। जिसने मुझे…

स्वरचित-बेटियाँ-

स्वरचित कविता- ---बेटियाँ---- बेटियों से ही घर में आती खुशियाँ अपार। बेटियों के बिन अधुरा घर…

मैं भी किसान

*मैं भी किसान* मेरी कलम , ये मेरा हल । मेरे कागज, ये मेरे खेत । जलता लैंप बना सूरज । स्याह की धारा , सींचे कोना कोना। करता हूं खेती ,…

सौ प्यास कैसे बुझे ?

मुझे कुछ ना सुझे भला एक बूंद में सौ प्यास कैसे बुझे ? तू मेरी ना सोच , जा किसी चोंच अमृत बन . मेरी यही नियति है कि तड़प मरूँ अति…