KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

रिश्ते-नाते आधारित रचना

अंतकाल-मनीभाई नवरत्न

मुझे शिकवा नहीं रहेगी गर तू मुझे छोड़ दे, मेरे अंतकाल में। मुझे खुशी तो जरूर होगी कि हर लम्हा साथ दे , तू मेरे हर हाल में। हां !मैं जन्मदाता हूँ। तेरा…

गीत माला ४२

. ? *गीतमाला* ? © सर्वाधिकार सुरक्षित ® बाबू लाल शर्मा बौहरा *विज्ञ* सिकंदरा,दौसा, राजस्थान (भारत) के ४२ छंदाधारित चुनिंदा *गीत/नवगीत* का अनूठा…

हाइकु छंद.,..300

हाइकु छंद.. ३०० ????????? ~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा *विज्ञ* ? *हाइकु......१००* ? . प्रथम शतक . °°°°°°°° १. खेत में डेरा…

हाइकु छंद…३००

*हाइकु...३०० बाबू लाल शर्मा* ????????? ~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा *विज्ञ* ? *हाइकु छंद* ? . °°°°°°°°° *मूलत: जापानी विधा हाइकु* की रचना…

मेरा परिचय

मेरा परिचय चौबीस मई तारीख भई, उन्नीस सौ सत्ततर सन। सन्तरो देवी की कोख से विनोद सिल्ला हुआ उत्पन्न।। माणक राम दादा का लाडला, उमेद…

नारी कल्याणी

??????? ~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . *मत्तमयूर छंद* : १३ वर्णीय मगण,तगण,यगण,सगण, गुरु विधान-२२२ २२१ १२२ ११२ २ . ---- .…

पत्थर दिल कब पिघले

????????? ~~~~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा . *गीत/नवगीत* . (१६,१२) *पत्थर दिल कब पिघले* . •••••• लता लता को खाना चाहे,…

सदमा

*सदमा* दो महीने हो गये। शांति देवी की हालत में कुछ भी सुधार ना हुआ। पुरुषोत्तम बाबू को उनके मित्रों और रिश्तेदारों ने सुझाव…