KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

तंबाकू मीठा जहर -पद्मा साहू पर्वणी (विश्व तंबाकू निषेध दिवस कविता)

14 346

तंबाकू मीठा जहर -पद्मा साहू पर्वणी (विश्व तंबाकू निषेध दिवस कविता)

नशा नाश की जड़ बने, याद रखो यह बात।
बर्बादी तन – मन करे, बने नहीं सौगात ।। 1

जो नर करता नित्य ही , तंबाकू उपभोग ।
उनको कैंसर स्ट्रोक मुँह , दिल का होता रोग ।।2

क्यों जीवन में कश लगा, धुआँ उड़ाते रोज।
मौत बुलाकर पास में, खोते जीवन ओज।।3

तंबाकू मीठा जहर, खाते वृद्ध जवान ।
शनैः शनैः यह आदमी , की ले लेता जान ।।4

जो बीड़ी सिगरेट का, करता निशदिन पान ।
रक्तचाप बढ़ता दमा , तन होता बेजान ।।5

गुटखा सस्ता सा नशा , बनते विष का घोल।
नशा स्वाद खातिर मनुज , खोते तन अनमोल।।6

तंबाकू बनता नहीं, कभी हमारा मित्र।
क्यों खाते हो देखकर , खतरा कैंसर चित्र।।7

नशा मूल को छोड़ने, करो नित्य ही योग।
तन मन होगा शुद्ध सब , काया बने निरोग।।8

तंबाकू सेवन करे, मौत बुलाए पास।
अपने पीछे छोड़कर , रहतें सदा उदास।।9

क्लेश मिटाकर गेह से, सुदृढ़ करो अनुराग।
कहे सदा ही पर्वणी, नर तंबाकू त्याग ।।10



पद्मा साहू पर्वणी,
खैरागढ़ जिला राजनांदगांव छत्तीसगढ़

Leave A Reply

Your email address will not be published.

14 Comments
  1. Padma says

    Thanks

  2. Vedwati Sahu says

    Bahut badiya Di

  3. SHREYANSH says

    Bhut bdhiya Mam 🤗

  4. Padma sahu says

    बहुत बहुत धन्यवाद साहू जी 🙏🙏🙏

  5. Padma sahu says

    धन्यवाद साहू जी 🙏🙏🙏

  6. Ghamm sahu says

    Nasha mukti Ki disha me utkrisht Doha srijan

  7. Padma sahu says

    Dhanyvad sir ji 🙏

  8. Padma sahu says

    Sir aapka isneha aur Ashish aise hi milta rahe 🙏🙏

  9. मनथीर दास says

    पद्मा तेरे पंखुड़ियों में ,बहती नित रस धार है ।
    पुलकित हो जाता है मन ,जब पढ़ता कविता बहार है ।

  10. पद्मा साहू says

    Thanks shruti

  11. पद्मा साहू says

    Thanks shruti

  12. Shruti says

    Nice way to express the harms of drug through recited poem..😊

  13. Mahdeep says

    बहुत बढ़िया

  14. Mahdeep says

    बहुत बढ़िया मैडम