KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

तीर्थ भूमि पर जन्म धरे से संत नहीं कहलाओगे

तीर्थ भूमि पर जन्म धरे से संत नहीं कहलाओगे

0 662

तीर्थ भूमि पर जन्म धरे से संत नहीं कहलाओगे


तीर्थ भूमि पर जन्म धरे से ,
                 संत नहीं कहलाओगे ।
निज कर्मों से ही तय होगा ,
               जन्म कौन सा पावोगे ।।


परहित की जो तजी भावना ,
         समझो सब कुछ व्यर्थ गया ।
अर्थ तलाशी के चक्कर में ,
             जीवन का ही अर्थ गया ।।
दंभी कपटी छली लालची ,
               नाम कमाकर जाओगे ।
तीर्थ भूमि पर जन्म धरे से ,
                संत नहीं कहलाओगे ।।

ऊँचे कुल की मान बड़ाई ,
                    तेरे काम न आयेंगे ।
अपने सुख की खातिर जीना ,
                 बदनामी कर जायेंगे ।।
कृतघ्नता आडंबर भरकर ,
               लक्ष्यहीन कहलाओगे ।
तीर्थ भूमि पर जन्म धरे से ,
               संत नहीं कहलाओगे ।।

जीवन का उद्देश्य बना ले ,
              तीर्थ मुझे ही बनना है ।
अवगाहन मति मज्जन करके ,
             भव से पार उतरना है ।।
नाम निशानी इस मेले में ,
               कर्मों से सिरझाओगे ।
तीर्थ भूमि पर जन्म धरे से ,
             संत नहीं कहलाओगे ।।

रामनाथ साहू “ननकी”

Leave A Reply

Your email address will not be published.