KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

थके हुए हैं पाँव दूर बहुत है गाँव

ग्रामीण परिवेश पर रचना

0 812

थके हुए हैं पाँव दूर बहुत है गाँव

थके हुए हैं पाँव, दूर बहुत है गाँव,

लेकिन हमको चलना होगा |

ढूंढ रहे हम ठाँव, लगी जिंदगी दाँव,

ठोकर लगे, संभलना होगा |

कर्मभूमि को अपना समझा,

जन्मभूमि को छोड़ दिया |

वक़्त पड़ा तो दोनों ने,

हमसे रिश्ता तोड़ लिया |

यहाँ मिली ना वहाँ मिली,

बुरे वक़्त में छाँव |

दूर बहुत है गाँव……………

ना गाडी, न कोई रेल,

पैदल हमको चलना होगा |

अजब जिंदगी के हैं खेल,

आज नहीं, तो कल क्या होगा ?

खेल-खेल में हम सबका,

उलट गया है दाँव |

दूर बहुत है गाँव……………

– उमा विश्वकर्मा, कानपुर, उत्तरप्रदेश

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.