आगे देवारी तिहार -छत्तीसगढ़ी कविता

आगे देवारी तिहार -छत्तीसगढ़ी कविता



तिहार आगे ग , तिहार आगे जी,
लिपे पोते छाभे मूंदे के ,तिहार आगे।
मन म खुशी अमागे ग,
मन म खुशी अमागे जी।
जुरमिल के दिया बारे के,
तिहार आगे ।

घर -घर गांव शहर,
पोतई बूता चलत हे।
दाई माई दीदीमन,
छभई मुंदई करत हे।
गांव -गांव ,गली-गली,
अंजोर बगरत हे।
जगमग जगमग ,
दियना बरत हे।
जीवन म सबके ,उजियार आगे जी,
लिपे पोते छाभे मूंदे के ,तिहार आगे।।

घर अंगना म दिया,
ख़ुशी के जलत हे।
प्रेम अउ मया के ,
झरना झरत हे।
लक्ष्मी मइया के ,
अशीष बरसत हे।
सुख अउ शांति ,
घर म उपजत हे।
घर-घर ख़ुशी के बहार ,आगे जी
अंधियारी दानव ल भगाय बर,
अंजोरी तिहार आगे जी।।
लिपे पोते छाभे मूंदे के ,तिहार आगे।।

लड़ई झगरा अउ,
बैर ल भुलाय के।
एके जगह रहिके,
सुख-दुख ल गोठियाय के।
पारा परोस म ,
सुख बगराय के।
मया पिरित के ,
दियना ल जलाय के।
तिहार आगे जी ,तिहार आगे ।
एकमई होके दिया बारे के,
तिहार आगे।
लिपे पोते छाभे मूंदे के ,तिहार आगे ।
तिहार आगे…….


(त्यौहार अथवा पर्व, हमे प्रेम और एकता का संदेश देती है।)

🪔रचनाकार🪔
महदीप जंघेल
ग्राम-खमतराई,
वि.खँ.-खैरागढ़
जिला- राजनांदगांव(छ.ग)

(Visited 84 times, 1 visits today)

This Post Has 2 Comments

  1. MAHDEEP JANGHEL

    धन्यवाद महोदय

  2. दूजराम साहू

    बहुत बढ़िया

प्रातिक्रिया दे