31 May - World No Tobacco Day||31 मई विश्व तंबाकू निषेध दिवस

तम्बाकू एक भूरा जहर-अशोक शर्मा

तम्बाकू एक प्रकार के निकोटियाना प्रजाति के पेड़ के पत्तों को सुखा कर नशा करने की वस्तु बनाई जाती है। दर सल तम्बाकू एक मीठा जहर है, तंबाकू निकोटिया टैबेकम पौधे से प्राप्त किया जाता है एक धीमा जहर. हौले-हौले यह आदमी की जान लेता है। सरकार को भी शायद यह पता नहीं कि तम्बाकू से वह राजस्व प्राप्त करनी है, यह बात तो सही है किंतु यह भी सही है कि तम्बाकू से उत्पन्न रोगों के इलाज पर जितना खर्च किया जाता है, यह राजस्व उससे कहीं कम है!

31 May - World No Tobacco Day||31 मई विश्व तंबाकू निषेध दिवस
31 May – World No Tobacco Day||31 मई विश्व तंबाकू निषेध दिवस

तम्बाकू एक भूरा जहर-अशोक शर्मा


आया प्रचलन अमेरिका से,
दुनिया में बोया जाता है।
आर्यावर्त में नंबर दूसरे पर,
यह पाया जाता है।
हो जाती है सुगंध की कमी,
जब यज्ञ पूजा में,
तंबाकू ताजगी खातिर ,
तब सुलगाया जाता है।।

मगर देखो कैसा रूप ,
धारण कर लिया इसने।
तम्बाकू सुर्ती खैनी का बिजनेस,
कर लिया जिसने।
धरा पर रूप धारण करके,
चूरन बनकर आया।
मुखों में हम सबके घाव,
कैंसर कर दिया इसने।।

बीड़ी सिगरेट जैसा उपयोग, इसका धूम्रपानों में।
धुँआ बन जहर भरता है,
यह तो आसमानों में।
तम्बाकू हुक्का चिलम की ,
आदत बनकर देखो।
लगाता आग सीने में,
श्वशन के कारमानों में।।

लिखा हर पैक पर होता ,
तम्बाकू जानलेवा है।
फिर भी हम खाते हैं इसको,
जैसे सुंदर सा मेवा है।
समझ आता नहीं हमको,
मेधा चकरा सी जाती है।
जानलेवा बिके थैली में,
तो यह कैसी सेवा है।।

धारा बर्बादी की बह रही ,
उसको मोड़ना होगा।
नासमझी की कड़ियों को,
मिलकर तोड़ना होगा।
गर रहना है स्वस्थ ,
जीना है दीर्घ जीवन तो।
इस भूरे जहर को ,
अब तो छोड़ना होगा।।



अशोक शर्मा 20.05.21

Please follow and like us:

12 thoughts on “तम्बाकू एक भूरा जहर-अशोक शर्मा”

  1. तेजस कुमार

    बहुत बढ़िया, संदेश पूर्ण रचना।

  2. अशोक कुमार

    सन्देशपूर्ण सुंदर रचना

  3. सिगरेट एक ऐसी पाइप हैै ,जिसके एक छोर पर आग है, और दूसरे छोर पर एक मूर्ख।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page