KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

कविता बहार बाल मंच ज्वाइन करें @ WhatsApp

@ Telegram @ WhatsApp @ Facebook @ Twitter @ Youtube

तू सम्भल जा अब भी वक्त ये तुम्हारा है -बाँके बिहारी बरबीगहीया (tu sambhal ja ab bhi waqt tumhara hai)

0 243
तू सम्भल जा अब भी वक्त ये तुम्हारा है 
समझो इस जीवन को ये तो बहती धारा है।

प्यार इजहार के लिए वक्त यूँ जाया न कर 
वक्त के साथ ये तो डूबता किनारा है।।

ये जो रंगीन लम्हे लेके जी रहे हो तुम
ये तो क्षण भर की खुशी मौसम-ए-बहारा है।।

जिन्दगी अनमोल तेरी ना लगा दाँव इसे।
लोग कहीं ये न कहे तू बहुत आवारा है।।

जा निकल जा रोक ले गीरते दरख्त को ।
बूढ़े माँ बाप तेरे बिन घर में बेसहारा हैं ।।

तू गुलिस्ताँ है चमन का तू एक सितारा है।
तू  सम्भल जा अब भी वक्त ये तुम्हारा है।।

बाँके बिहारी बरबीगहीया
राज्य -बिहार बरबीघा( पुनेसरा)

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.