KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

त्रिपदिक

0 73

शुद्ध जनक छंद (त्रिपदिक )  = 13 मात्रा
          पहले और तीसरे पद पर सम तुकान्त ।
     .    *
अतीत   धरोहर   है ।
सुधार  ले  चल  आज  को
तुझे  आता  जौहर   है ।
            *
जीवन रण हारा अगर ।
मत हो निराश बाँकुरे
देगी विजय मंत्र समर ।
           *
कविता नहीं बोल रहा ।
आप बीती है मेरी
भेद ये क्यों खोल रहा ।
                *
कर्म में प्रेम धर्म कर ।
समृद्धि घर आती है
बंदे सदा सुकर्म कर ।
     .              *
क्यों  परेशान हो रहा ।
बढ़ तू अपनी मौज में
गम न कर किसी ने कहा ।
            *
ये प्रवंचना छोड़ दे ।
सद्भावना कर केवल
कटीले  पंथ मोड़  दे ।
             ~  रामनाथ साहू  ” ननकी “
                          मुरलीडीह

Leave a comment