Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

तुलसी पिरामिड

0 194

तुलसी पिरामिड

हे
विष्णु
प्रिया माँ
तुलसी तू
सब जग की
माता सुख दाता
तुलसी  महारानी ।

हे
श्यामा
सुर वल्ली
ग्राम्य माता
तुमको मना
दीप जलाकर
वाँछित फल पाऊँ।

ले
जन्म
विजन
आई है माँ
भवन मेरी
हरि की प्यारी तू
श्यामवर्णी  हे माते।

CLICK & SUPPORT

हे
श्यामे
तुम हो
गुणकारी
रोग ऊपर
रूज से रक्षा रत
संजीवनी  हो तुम ।

हो
सर्दी
खाँसी  तो
या  बुखार
काली  मिर्च व
तुलसी के पत्ते
उबालें  काढ़ा  पी लें।

हो
गर
दस्त तो
तुलसी  के
पत्ते को जीरे
मिला के पीस  लें
दिन में  तीन बार ।

केवरा यदु “मीरा “

Leave A Reply

Your email address will not be published.