Join Our Community

Publish Your Poems

CLICK & SUPPORT

उन बातों को मत छेड़िये

0 178

उन बातों को मत छेड़िये

HINDI KAVITA || हिंदी कविता
HINDI KAVITA || हिंदी कविता

सारी बातें बीत गई उन बातों को मत छेड़िये,
जो तुम बिन गुजरी उन रातों को मत छेड़िये।

तुम मिलो न मिलो हमसे रूबरू होकर कभी,
लाखो शिकायते हैं उन हालातों को मत छेड़िये।

CLICK & SUPPORT

एक नजर भर देखा था हमने  तुमको यूँही कही,
छूकर जो तुम्हें उठे उन ख्यालातों को मत छेड़िये।

अकेले ही सफर करना हैं अब तेरी यादों से,
प्रीत की जो मिली उन सौगातों को मत छेड़िये।

मेरी धड़कनों की चाहत बस इतनी सी रही,
जीने के लिए “इंदु”दिल के तारों को मत छेड़िये।

रश्मि शर्मा “इन्दु”

Leave A Reply

Your email address will not be published.