हिन्दी वर्णमाला पर कविता – दुर्गेश मेघवाल

हिन्दी वर्णमाला पर कविता- दुर्गेश मेघवाल

अ से अनार ,आ से आम ,
पढ़ लिख कर करना है नाम।

इ से इमली , ई से ईख ,
ले लो ज्ञान की पहली सीख ।

उ से उल्लू ,ऊ से ऊन,
हम सबको पढ़ने की धुन ।

ऋ से ऋषि की आ गई बारी,
पढ़नी है किताबें सारी।

ए से एडी , ऐ से ऐनक ,
पढ़ने से जीवन में रौनक ।

ओ से ओखली , औ से औरत ,
पढ़ने से मिलती है शोहरत ।

अं से अंगूर , दो बिंदी का अः ,
स्वर हो गए पूरे हः हः ।

क से कबूतर , ख से खरगोश ,
पढ़ लिखकर जीवन में जोश ।

ग से गमला , घ से घड़ी ,
अभ्यास करें हम घड़ी घड़ी ।

ङ खाली आगे अब आए ,
आगे की यह राह दिखाए ।

च से चरखा , छ से छतरी ,
देश के है हम सच्चे प्रहरी ।

ज से जहाज , झ से झंडा ,
ऊँचा रहे सदा तिरंगा ।

ञ खाली आगे अब आता ,
अभी न रुकना हमें सिखाता ।

ट से टमाटर , ठ से ठठेरा ,
देखो समय कभी न ठहरा ।

ड से डमरू , ढ से ढक्कन ,
समय के साथ हम बढ़ाये कदम ।

ण खाली अब हमें सिखाए ,
जीवन खाली नहीँ है भाई।

त से तख्ती , थ से थन ,
शिक्षा ही है सच्चा धन ।

द से दवात , ध से धनुष ,
शिक्षा से हम बनें मनुष ।

न से नल , प से पतंग ,
भारत-जन सब रहें संग-संग ।

फ से फल , ब से बतख ,
ज्ञान-मान से जग को परख ।

भ से भालू , म से मछली ,
शिक्षा है जीवन में भली ।

य से यज्ञ , र से रथ ,
पढ़ लिखकर सब बनों समर्थ ।

ल से लट्टू , व से वकील ,
ज्ञान से सबका जीतो दिल ।

श से शलजम , ष से षट्कोण,
खुलकर बोलो तोड़ो मौन ।

स से सपेरा , ह से हल ,
श्रम से ही मिलता मीठा फल ।

क्ष से क्षत्रिय हमें यही सिखाए ,
दुःख में कभी नहीँ घबराएँ ।

त्र से त्रिशूल , ज्ञ से ज्ञानी ,
बच्चों ‘अजस्र ‘ की यही जुबानी ।

✍✍ *डी कुमार–अजस्र(दुर्गेश मेघवाल,बून्दी/राज.)*

प्रातिक्रिया दे