विजय रथ उसको मिलेगा – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

इस रचना में कवि जीवन में किस तरह से आप सत्कार और अभिनंदन प्राप्त कर सकते हैं उन संकेतों को आपसे साझा कर रहा है |
विजय रथ उसको मिलेगा – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

0 144

विजय रथ उसको मिलेगा – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा
विजय ध्वज उसको मिलेगा
विजय रथ उसको मिलेगा

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा

राष्ट्र्पथ पर जो चलेगा
जीत केवल उसकी ही होगी
युद्ध पथ पर जो बढ़ेगा
विजय रथ उसको मिलेगा

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा

जयमाल उसको मिलेगी
संघर्षपथ अग्रसर जो होगा
जयघोष उसकी ही होगी
जो विजयपताका थाम लेगा
विजय रथ उसको मिलेगा

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा

जयघोषणा उसकी होगी
जयपूर्ण कर्म जो करेगा
विजय स्तंभ उसका बनेगा
गौरवपूर्ण जिसका भूतकाल होगा

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा

ज़र्रा – ज़र्रा कायल उसका होगा
सारी कायनात पर अहसान जिसका होगा
स्मारक उसका बनेगा
संघर्ष जिसकी पहचान होगी

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा

जीवनी उसकी लिखेगी
जीवन जिसने जिया होगा
आदर्श जिसकी पूँजी होगी
संकल्प जिसने लिया होगा

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा

जय मंगल गान उसका होगा
जिसने सबका मंगल किया होगा
जयघोष उसकी ही होगी
जो दूसरों के लिए जिया होगा

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा

जय परायण केवल वो होगा
जिस पर प्रभु का हाथ होगा
जगमगायेगा वही इस धरा पर
जिसने पत्थर को तराशा होगा

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा

पायेगा वही जाकर वहाँ कुछ
जिसने यहाँ कुछ खोया होगा

विजय रथ उसको मिलेगा
धर्म पथ जो चलेगा

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.