HINDI KAVITA || हिंदी कविता

विनोद सिल्ला की कविता

भाईचारा पर कविता

मैंने मना कर दिया

मैंने भाईचारा
निभाने से
मना कर दिया

थी उनकी मनसा
मैं उनको
भाई बनाऊं
वे मुझको चारा ।

-विनोद सिल्ला

मेरा कुसूर

मैं था कठघरे में
दागे सवाल
उठाई उंगली
लगाए आक्षेप
निकाली गलतियाँ
निकम्मों ने

मेरा कुसूर था कि
मैंने काम किया ।

-विनोद सिल्ला

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page