16 सितंबर विश्व ओजोन दिन विशेष

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar #manibhainavratna
#world ozone day 
सूरज है आग का गोला ।
जलता है ,बनकर शोला ।
किरणों में है ,पराबैंगनी ।
सबके लिए ,घातक बनी।
धन्यभाग, हम मानव का।
जो कवच है इस धरा का।
ओज़ोनपरत वो कहलाए।
घातक किरणें आ ना पाए।
आज छेद होने का है डर ।
भोग विलास का है असर ।
एसी फ्रिज उर्वरक से रिसे।
क्लोरोफ्लोरोकार्बन  गैसें ।
यह नहीं, पानी में घुलती ।
पर्त में सीधे हमला करती।
जहर ओजोनछिद्र बनाता।
पराबैंगनी सीधे धरा आता।
फैले कैंसर ,चर्म-नेत्र रोग ।
हाहाकार करते सब लोग ।
नहीं खतरा एक ही देश को।
चेतावनी है मानव लोक को।
प्रदूषण कम करें,बचायें जान।
मिलजुल कोशिश से आसान।
संभलजा तू! अभी मुमकिन ।
कहे16 सितंबर ओजोन दिन।

 मनीभाई ‘नवरत्न’, छत्तीसगढ़
(Visited 14 times, 1 visits today)

मनीभाई नवरत्न

छत्तीसगढ़ प्रदेश के महासमुंद जिले के अंतर्गत बसना क्षेत्र फुलझर राज अंचल में भौंरादादर नाम का एक छोटा सा गाँव है जहाँ पर 28 अक्टूबर 1986 को मनीलाल पटेल जी का जन्म हुआ। दो भाईयों में आप सबसे छोटे हैं । आपके पिता का नाम श्री नित्यानंद पटेल जो कि संगीत के शौकीन हैं, उसका असर आपके जीवन पर पड़ा । आप कक्षा दसवीं से गीत लिखना शुरू किये । माँ का नाम श्रीमती द्रोपदी पटेल है । बड़े भाई का नाम छबिलाल पटेल है। आपकी प्रारम्भिक शिक्षा ग्राम में ही हुई। उच्च शिक्षा निकटस्थ ग्राम लंबर से पूर्ण किया। महासमुंद में डी एड करने के बाद आप सतत शिक्षा कार्य से जुड़े हुए हैं। आपका विवाह 25 वर्ष में श्रीमती मीना पटेल से हुआ । आपके दो संतान हैं। पुत्री का नाम जानसी और पुत्र का नाम जीवंश पटेल है। संपादक कविता बहार बसना, महासमुंद, छत्तीसगढ़