पुलवामा की घटना

           पुलवामा की घटना



पुलवामा की घटना देख,
                              देश बड़ा शर्मिंदा है।
धिक्कार हमारे भुजबल पर ,
                      अब तक कातिल जिन्दा है।
वो बार -बार हमला करते ,
                          हम शांति वार्ता करते है।
दुश्मन इस गफलत में है,
                        शायद हम उससे डरते है।
गीदड की औकाद ही क्या ,
                      जो हमको आँख दिखायेगा।
पीठ पर घाव दिया है ,
                          तो छाती पर भी खायेगा।
एक काम बस इतना करना ,
                              सेना को समझा देना।
इन हत्यारे कुत्तो की ,
                     छाती को छलनी बना  देना।
हमने बेटा खोया है,
                           उनको भी खोना होगा।
अपने आंसू बहते है ,
                            उनको भी रोना होगा।
यही न्याय है यही धर्म है,
                             खून के बदले खून बहे।
दर्द जितना हम झेले है,
                               कष्ट उतना वो भी सहे।
पुलवामा भी याद करे ,
                         ऐसा बदला लेना होगा।
सर्जिकल स्ट्राइक कर ,
                          जवाब उनको देना होगा।
                  पंकज
(Visited 1 times, 1 visits today)