बेबश नारी- लाचार ममता

2 59

सायं ठल गई अंधेरों में कब तक यूं ही  सोओगे,      ममता की दुलारी चिडियाँ कब तक यूं ही खोओगे।                                               ममता का जमीर बेच दिया-इंसानियत के गधारों ने,                                                       
बहना का सब धीर सेज दिया-चिडियाँ के हत्यारों ने।                                          
चोर,उचके,चौराहों पर ध्यान लगाए बैठे है,       इज्जत की पौडी पर अपना- ईम्मान लगाए बैठे है।                                                    भाई-बहन के रिश्तों की यूं -धज्जियाँ उडा़ डाली है,                                                           ज्यों फूलों की खेती मथता -एक खेत का माली है ।                                                     
निर्भया,रेड्डी जैसी कलियाँ- ममता ने प्यार से पाली है,                                         हवश-हेवानों ने मिलकर सब- पंखुडियाँ नोंच डाली है।                                       
समाजसेवीयों के सब पत्र-संघर्ष की सेज पर जाली है,                                           
शोर्य,शान की रखवाली-स्वदेश पुलिस के हाथ खाली है।                                       
गवाह,सबूत सब अपराधों के-धरे-धराएं बैठे है,     आशा की उम्मीद पर दुशमन- सब सेज लगाए बैठे है।                                                     जब न्याय नही मिल पाता-इस ममता की दुलारी को,                                                           तब  स्वयं खत्म करना पड़ता है- भारतवर्ष की नारी को।                                   
ताराचन्द भारतीय,अपने बेटों को अच्छे संस्कार – जब सीख लाओगे,                                        
अपने ईम्मान लगा कलंक-तब इज्जत से धो पाओगे।                      लेखक-ताराचन्द भारतीय

2 Comments
  1. Mandeep says

    Va Bhai…..👍👍👍👍👍👌👌👌👌👌

  2. विनोद सिल्ला
    विनोद सिल्ला says

    Very nice

Leave A Reply

Your email address will not be published.