व्यंग्य-नमक

0 17

व्यंग्य-नमक

होटल में खाने के मेज पर छोटे छोटे छिद्रों वाले डिब्बे पड़े ही रहते हैं।कार्टून बने डिब्बे में नमक मिर्च भरे होते हैं, दाल सब्जी में नमक कम हो तो मन मर्जी डाल लो।लेकिन सब्जी में नमक ज्यादा होने पर सारा जायका बिगड़ जाता है।नमक को सब्जी का जान कह सकते हैं,पानी रंगहीन होता है लेकिन बहुत कम लोगो को पता रहता है कि शुद्ध नमक भी रंगहीन होता है।विज्ञान का विद्यार्थी साधारण नमक का सूत्र नहीं जानता है तो समझ लो विज्ञान में कमजोर है।समुद्र का पानी नमकीन होता है,पढ़े थे पर पढ़ा हुआ ज्ञान हमेसा याद कहाँ रहता है।एक बार दोस्तों के साथ समुद्र में नहाने चले गए मगर साबुन से झाग निकला ही नहीं,और शरीर को धोने के लिए पानी बोतल का सहारा लेना पड़ा।हमने एक बंदे से पूछ लिया नमक कैसे बनता है? बंदा था बड़ा विद्वान बताया झील,समुद्र के पानी से,नमक का खदान खैबर पाकिस्तान और भारत में राजस्थान के साँभर में पाया जाता है।नमकीन पानी से नहाए क्या,नमक के स्रोत की जानकारी मिल गई।समुद्री मछलियों को पकाते वक्त नमक डालना नहीं पड़ता अहा क्या स्वाद।वैसे दैनिक खुराक में नमक दो से तीन ग्राम ही खाना चाहिए मगर पिता श्री तो खाने को बैठते हैं तो नमक का डिब्बा साथ लेकर बैठते हैं।एक दिन हमने कहा-‘बाबूजी नमक ब्लडप्रेसर बढाता है।हमारी बात सुन कर गुस्साकर बोले-‘डॉक्टर तो कुछ भी कह देते हैं बताओ बिना नमक के खाना पचेगा कैसे?वैसे भी नमक कम होने से अल्जाइमर नामक रोग होता है।याददाश्त कमजोर हो जाती है।हमने कहा कुछ भी तर्क देकर नमक से प्रेम मत बढाओ वरना पछताना पड़ेगा।आपको पता नहीं पर विज्ञान के किताबो में सफेद रंग वालो से बचने को कहा गया है जिसमे मैदा और नमक है।पिताजी नमक मिलाकर खाने लगे,नमक का विरोध तो सब करते हैं पर काले नमक को खाने की सलाह भी देते हैं।मुमफली खरीदने वाले तो नमक की पुड़िया साथ माँगना नहीं भूलते।घर का बजट हो तो नमक उसमे अवश्य रहता है और भूल गए तो सब्जी पकाते वक्त नमक मांगे कैसे नमक माँगना अशुभ बताया जाता है और माँग ले तो हथेली में नमक लेना भी अशुभ माना जाता है फेकना तो चाहिए ही नहीं।होली में बदमाश लोग जिस सामान को पाते हैं,होली के साथ जला देते हैं होली जलने से पहले दूकान वाले सामान को अंदर सुरक्षित रख लेते हैं पर हमने देखा लाला सेठ के दूकान के बाहर नमक की बोरी पड़ी थी।हमने फोन कर कहा चाचा आपके दूकान के बाहर नमक की बोरी पड़ी है।चाचा कहने लगे भतीजे नमक की चोरी नहीं होती और हँसने लगे।मगर मोहल्ले के लड़कों ने उनके नमक की बोरी होली में डाल दिए।खड़ा नमक फटाके जैसे फूटने लगा धड़ाम।लोग चोरी तो सबकी करते हाँ पर नमक की नहीं करते इस चक्कर में लाला जी पड़े रहे। सुबक नमक की बोरी गायब होने पर रोने लगे।महँगाई के जमाने में नमक का जलाना तो हृदय को जलाएगा ही।लाला जी को हमने कहा चाचा जी हटाओ नमक की बात कुछ और सुनाओ लाला ने कहा जख्म पर नमक मत लगाओ,हम सुनते ही वहाँ से निकल लिए।नमक बहुत उपयोगी होता है मछली धोने के लिए,अर्थिंग के गड्ढे में डालने के लिए ओआरएस के घोल में दवा के रूप में बहुत ही काम आता है।सब्जी के साथ जानवरो के भोजन में नमक उपयोगी होता है।मुंशी प्रेमचंद की लघु कथा नमक का दरोगा बहुत प्रसिद्ध है।नमक कानून तोड़ने के लिए गाँधी जी को आंदोलन करना पड़ा था जो इतिहास में नमक सत्याग्रह के नाम से प्रसिद्ध है।1996 में नमक पर फ़िल्म बनी,लेकिन नमक हलाल ने फ़िल्म इंडस्ट्री में धूम मचा दिया।गाली तो हर मुँह में होता है जरा सा गुस्सा हो लोग गाली देने लगते हैं धोखेबाज के लिए प्रसिद्ध गाली है ‘नमक हराम’ नमक हराम फ़िल्म से बच्चन साहब सुपरस्टार बन गए।नमक से किचन की गंदगी साफ कर सकते हैं,दाँत चमका सकते हैं,हाँथो की गंदगी साफ कर सकते हैं,फलो को सुरक्षित रख सकते हैं।आजकल बाजार में शुद्ध आयोडीन कहकर नमक बेचा जा रहा है,नमक की माँग इतनी बढ़ गई है कि सैकड़ो कम्पनिया नमक बेच रही है असली नकली में समझ ही नहीं आ पाता वैसे घेंघा रोग नमक के कमी से ही होता है।गाँव के पंचू बुजुर्ग को मृत्यु शैया पर लिटा कर श्मशान ले जाया गया,लकड़ी की महंगाई को देखकर जेसीबी मंगवाकर दफनाया जा रहा था।किसी बुजुर्ग ने कहा-नमक डालो पर नमक लाए नहीं थे गिरते पानी में दूकान से नमक लाया गया,नमक डाल कर दफनाया गया,किसी ने कहा-नमक से शरीर गल जाता है,नमक का सेवन जीवन भर और मृत्यु होने पर भी काम आता है।पर जले जले पर नमक छिड़कना अच्छी बात नहीं।

राजकिशोर धिरही
तिलई,जांजगीर छत्तीसगढ़

Leave A Reply

Your email address will not be published.