धरती माता /डा. राजेश तिवारी

धरती माता /डा. राजेश तिवारी

धरती मेरी माँ है इसको स्वस्थ और स्वच्छ बनायें ।
आओ इसकी रक्षा और सुरक्षा का दायित्व उठायें ।।
……………………………………………………….

अवैध और अनैतिकता से इसका खनन जो करते ।
सोचो इसको दिये घाव जो  कहो वो  कैसे भरते ।।
इनको हरी भरी रखना है ये रोमावली है वृक्ष लतायें ।

मृदा प्रदूषति न करना , यह जनता को समझा दो ।
पन्नी , पोलीथीन आदि को अब ही आग लगा दो । ।
गोमय खाद गौमूत्र आदि से इसे आओ उर्वरक बनाये ।

धरती मां हम सब सपूत हैं इसका ध्यान भी धरना ।
इसकी रक्षा और स्वाभिमान हित जीना है व मरना ।।
मातृ भूमि को नमन करें हम सब श्रद्धा शीश झुकाये ।


भूदेवी और श्री देवी को नमन सभी करते हैं लोग ।
अक्षत चन्दन पुष्प दीप से अर्चन करें लगाते भोग ।।
आओ अपनी मातृभूमि पर श्रद्धा से सुमन चढाये ।



डा. राजेश तिवारी ‘मक्खन’
झांसी उत्तरप्रदेश

You might also like

Comments are closed.