खीर पर कविता

खीर पर कविता

मम्मी मम्मी खीर बना दो
चम्मच चम्मच खाएँगे

एक कटोरी मुझको देना
एक कटोरी मुन्नी को
थोड़ी सी उसको भी देना
खाला की उस चुन्नी को

गरम गरम जो निकले पूड़ी
पल में चट कर जाएँगे
मम्मी मम्मी खीर बना दो
चम्मच चम्मच खाएँगे

पतला चावल बढ़िया रहता
टेस्टी खीर बनाने में
पिस्ता,चिरौंजी साथ उसमें
मजा उड़ा लो खाने में

केसर पत्ती थोड़ी सी घी
खुशबू खूब बढाएँगे
मम्मी मम्मी खीर बना दो
चम्मच चम्मच खाएँगे

लौंग इलायची रहे उसमे
काजू किसमिस भी डालो
तुलसी पत्ती रहे बादाम
चीनी जितनी तुम भा लो

मन बहुत बहुत ही ललचाए
कैसे सम्हल पाएँगे
मम्मी मम्मी खीर बना दो
चम्मच चम्मच खाएँगे

राजकिशोर धिरही

You might also like