KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

मनीभाई की तांका

मनीभाई की तांका


●●●●●●●●●●
नाचते देखा
देव विसर्जन में
लोगों को
लिए फूहड़पन
डीजे केे तरानों में।
●●●●●●●●●●
मैं नहीं एक
मेरे रूप अनेक
मैं ही ना जानूँ 
मेरी हकीकत को
मुझसे मिला दे तू।
●●●●●●●●●●
मनीभाई ‘नवरत्न’