KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

सुधा राठौर जी के हाइकु

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

सुधा राठौर जी के हाइकु
~~~~~ ● ~~~~~
छलक गया
पूरबी के हाथों से
कनक घट

बहने लगीं
सुनहरी रश्मियाँ
विहान-पथ

चुग रहे हैं
हवाओं के पखेरू
धूप की उष्मा

झूलने लगीं
शाख़ों के झूलों पर
स्वर्ण किरणें

नभ में गूँजे
पखेरुओं के स्वर
प्रभात गान

सुधा राठौर