KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

@आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा गुरु पूर्णिमा पर हिंदी कविता

आषाढ़ शुक्ल पूर्णिमा गुरु पूर्णिमा :

गुरू पूर्णिमा उन सभी आध्यात्मिक और अकादमिक गुरूजनों को समर्पित परम्परा है जिन्होंने कर्म योग आधारित व्यक्तित्व विकास और प्रबुद्ध करने, बहुत कम अथवा बिना किसी मौद्रिक खर्चे के अपनी बुद्धिमता को साझा करने के लिए तैयार हों। इसको भारत, नेपाल और भूटान में हिन्दू, जैन और बोद्ध धर्म के अनुयायी उत्सव के रूप में मनाते हैं। यह पर्व हिन्दू, बोद्ध और जैन अपने आध्यात्मिक शिक्षकों / अधिनायकों के सम्मान और उन्हें अपनी कृतज्ञता दिखाने के रूप में मनाया जाता है। यह पर्व हिन्दू पंचांग के हिन्दू माह आषाढ़ की पूर्णिमा (जून-जुलाई) मनाया जाता है। इस उत्सव को महात्मा गांधी ने अपने आध्यात्मिक गुरू श्रीमद राजचन्द्र सम्मान देने के लिए पुनर्जीवित किया। ऐसा भी माना जाता है कि व्यास पूर्णिमा वेदव्यास के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है।

पर्व

बनिए गुरु तब मीत -बाबू लाल शर्मा बौहरा विज्ञ

बनिए गुरु तब मीत द्रोण सरीखे गुरु बनो,भली निभाओ रीत। नहीं अँगूठा माँगना, एकलव्य से मीत।।एकलव्य की बात से, धूमिल द्रोण समाज।कारण जो भी थे रहे, बहस न करिए आज।।परशुराम से गुरु बनो, विद्यावान प्रचंड।कीर्ति सदा भू पर रहे, हरिसन तजे घमंड।।गुरु चाणक्य समान ही,कर शासक निर्माण।अमर बनो स्व राष्ट्रहित, कर काया निर्वाण।।वालमीकि से धीर हो, सिय…
Read More...

गुरुवर – सुकमोती चौहान रुचि

गुरुवर गुरु है आदरणीय , दूर करता अंधेरा ।पाकर ज्ञान प्रकाश , सफल है जीवन मेरा ।।सद् गुरु खेवनहार , कीजिए सदैव आदर ।कच्ची मिट्टी खण्ड , बनाया जिसने गागर ।।गुरु के चरणों में अमृत , महिमा अपरंपार है ।भवसागर उद्धार का , गुरु ही तो पतवार है ।।शिक्षक ईश्वर रूप, ज्ञान का होता दाता।नेक दिखाये मार्ग, जोड़िए इनसे नाता।।इनसे लेकर सीख, निरंतर आगे…
Read More...

गुरु पूर्णिमा पर दोहे

गुरु पूर्णिमा पर दोहे आषाढ़ शुक्ल गुरु पूर्णिमा Ashadh Shukla Guru Poornima आज दिवस गुरु पूर्णिमा,सुरभित और पवित्र।होते गुरु सम देवता, और हमारे मित्र।।गुरु महिमा लेखन करूँ,आज कलम की धार।मैं अबोध बालक प्रभो,कर लेना स्वीकार।।तेरी महिमा श्रेष्ठ…
Read More...

गुरूपूर्णिमा विशेष दोहे

गुरूपूर्णिमा विशेष दोहे करूँ नमन गुरुदेव को,जिनसे मिलता ज्ञान।सिर पर आशीर्वाद का,सदा दीजिए दान।।१।।*****हरि गुरु भेद न मानिए,दोनों एक समान।कुछ गुरु हैं घंटाल भी,कर लेना पहचान।।२।।*****प्रथम गुरू माता सुनो,दूजे जो दें ज्ञान।तीजे दीक्षा देत जो,जग गुरु सीख सुजान।।३।।*****ज्ञान गुरू देकर करें,शिष्यों का कल्याण।गुरु सेवा से शिष्य भी,होते ब्रम्ह…
Read More...

गुरु की महिमा – एन्०पी०विश्वकर्मा

18 दिसंबर गुरु घासीदास जयंती 18 December Guru Ghasidas Jayanti गुरु की महिमा ====================गुरु की महिमा में कभी, सीमा रही न एक। एक गुरू शिक्षण करें, सीखें शिष्य अनेक।। आदि शंकराचार्य जी, गुरु का पा संकेत।सन्यासी हो ही गए, तजकर ग्राम-निकेत ।।गुरु गोविन्द की सीख से,…
Read More...

गुरू पर कुण्डलियां -मदन सिंह शेखावत

गुरू पर कुण्डलियां आषाढ़ शुक्ल गुरु पूर्णिमा Ashadh Shukla Guru Poornima गुरू कुम्हार एक से,घड़ घड़ काडे खोट। सुन्दर रचना के लिए,करे चोट पर चोट। करे चोट पर चोट,शिष्य को खूब तपाये। नेकी पाठ पढाय ,सत्य की राह बताये। कहै मदन कविराय,बातपर कर अमल शुरू। होगा भव से पार, मिल जाये पूरा गुरू।। मदन सिंह शेखावत ढोढसर
Read More...