KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

@कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा भाई दूज पर हिंदी कविता

कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा भाई दूज : शास्त्रों के अनुसार भैयादूज अथवा यम द्वितीया को मृत्यु के देवता यमराज का पूजन किया जाता है। इस दिन बहनें भाई को अपने घर आमंत्रित कर अथवा सायं उनके घर जाकर उन्हें तिलक करती हैं और भोजन कराती हैं। ब्रजमंडल में इस दिन बहनें भाई के साथ यमुना स्नान करती हैं, जिसका विशेष महत्व बताया गया है।

भाई पर कुण्डलिया छंद

साहित रा सिँणगार १०० के सौजन्य से 17 जून 2022 शुक्रवार को पटल पर संपादक आ. मदनसिंह शेखावत जी के द्वारा विषय- भाई पर कुण्डलिया में रचना आमंत्रित किया गया. कुंडलियां विधान- एक दोहा + एक रोला छंददोहा -विषम चरण १३ मात्रा चरणांत २१२सम चरण ११ मात्रा चरणांत २१समचरण सम तुकांत होरोला - विषम चरण - ११ मात्रा चरणांत २१सम चरण - १३ मात्रा चरणांत २२ …
Read More...

भाई-बहन का रिश्ता न्यारा- दीप्ता नीमा

भाई-बहन का रिश्ता न्यारा- दीप्ता नीमा भाई-बहन का रिश्ता न्यारालगता है हम सबको प्याराभाई बहन सदा रहे पासरहती है हम सभी की ये आसइस प्यार के बंधन पर सभी को नाज़।।1।।भाई बहन को बहुत तंग करता हैपर प्यार भी बहुत उसी से करता हैबहन से प्यारा कोई दोस्त हो नहीं सकताइतना प्यारा कोई बंधन हो नहीं सकताइस प्यार के बंधन पर सभी को नाज़।।2।।बहन की दुआ में भाई…
Read More...

भाई दूज पर कविता

भाईदूज विशेष: एक सैनिक की भाई दूज जब वह बहन के पास नहीं आ पाता तो अपनी बहन के पास ये पैगाम भेजता है जिसे कवयित्री अनिता मंदिलवार सपना ने कविता के माध्यम से व्यक्त की है
Read More...

दूजराम साहू – पांच दिन बर आये देवारी

पांच दिन बर आये देवारी माटी के सब दीया बारबो एसो के देवारी म। जुरमील सब खुशी मनाबो एसो के देवारी म।। पांच दिन बर आये देवारी अपार खुशी लाये हे । घट के भीतर रखो…
Read More...