KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

@कार्तिक शुक्ल पक्ष षष्ठी कमरछठ पर हिंदी कविता

कार्तिक शुक्ल पक्ष षष्ठी कमरछठ : मनोज शुक्ला ने कहा कि बच्चों की लंबी उम्र के लिए माताओं द्वारा किया जाने वाला छत्तीसगढ़ी संस्कृति यह ऐसा पर्व है जिसे हर जाति और वर्ग के लोग मनाते हैं। हलषष्ठी हलछठ, कमरछठ या खमरछठ नाम से भी जानी जाती है। शनिवार को इस पर्व पर माताओं ने सुबह से महुआ पेड़ की डाली का दातून कर, स्नान कर व्रत धारण किया।

छठ का दिवस पुनीत: एन्०पी०विश्वकर्मा

उदय- अस्त दोनों समय,नित्य नियम से सात।सूर्य परिक्रमा के कहें,अन्तर्मन की बात।।प्रतिदिन दर्शन दे रहे,सूर्य देव भगवान।छठ पूजा का है बना ,जग मे उचित विधान।।सूर्य भक्त क कठिन व्रत,करते उन्हें प्रसन्न।प्रभु पूषा भी भक्त की,हरते दुख -आसन्न।।गतियों से ऋतुएँ बनी,पावस -गर्मी-शीत।मानव का सब डर हरें,बनकर उनका मीत।।देव-दनुज-मानव सभी,आराधन की रीत।मना सदा पूजा…
Read More...