KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

केवरा यदु “मीरा “द्वारा रचित सुन मैंया मोरी राधा से ब्याह करादे (sun maiya mori moru radha se byah kara de)

100
सुन मैंया मोरी राधा से ब्याह करादे ।
राधा मेरो मन को भावे माता मोहि दिलादे ।
सुन मैंया मोरी राधा से ब्याह करादे ।
मैंया –  ना ना लाला तू अभी है छोटा ।
अकल का भी तू है   मोटा ।
इस बात को दिल से भुलादे
रे कान्हा अभी ब्याह की बात भुलादे।।
कान्हा –गैया चराने मैंया मैं न जाऊँ ।
माखन मिसरी  माँ  मैं  न खाऊँ ।
बस राधा ही मोहि दिलादे ।
सुन मैंया मोरी राधा से ब्याह करादे।।
मैंया–तू जाता गइयन के पीछे ।
राधा जायेगी तेरे पीछे पीछे ।
लाला बात  तू दिल से भुलादे ।
रे कान्हा अभी ब्याह की बात भुलादे ।।
कान्हा-आयेगी राधा मैंया सेवा करेगी ।
दूध दही  मटकी  से भरेगी ।
मैंया चाहे तो तू पाँव दबवाले ।
सुन मैंया मोरी राधा से ब्याह करादे।।
केवरा यदु “मीरा “
राजिम
You might also like

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.