पिया जी देखो वसंत आ गया

✍पिया जी देखो वसंत आ गया
पेड़ो के झुरमुट से आती
कोयल की मीठी बोली
फूलों की हर कली पर देखो
मतवाले भवरों की टोली
आम वृक्ष मंजरी व टिकोरो से लदबद गया ।
पिया जी देखो वसंत आ गया ।।
बेल वृक्ष पर आये नए फूल
पौधो की अनुपम हरियाली
नव पल्लव का पालना डाले
प्रकृति न
भी लाई खुशहाली
टेसू के दहकते फूल मनोरम छटा फैला गया ।
पिया जी देखो वसंत आ गया ।।
आमो की मोहनी खुशबू
महुआ की मनमोहक गंध
सरसों से सज रही धरती देख
हमें मिल रहा अलौकिक आनंद
पेड़ो की हरेक डाली पक्षियों से चहचहा गया ।
पिया जी देखो वसंत आ गया ।।
फूलों का वस्त्र पहने ऋतुराज
सज- धज के आ गये है
प्रकृति का विहंगम दृश्य दिखाकर
मन में समा गये है
सौन्दर्य बिखेरती मौसम सुहावना ने मेरे मन को लुभा गया ।
पिया जी देखो वसंत आ गया ।।
✍बाँके बिहारी बरबीगहीया ✍
मोबाइल नंबर- 6202401104
(Visited 1 times, 1 visits today)