मित्रों तोड़ो मौन !

0 4

18..मित्रों ! तोड़ो मौन  – 04.03.2020
————————————-/
जब-जब निर्वात-मौन
सम्प्रेषणहीन होकर
पड़ा होता है लाचार
तब-तब 
वाणी का स्वर
माध्यम बनकर
जोड़ता है
दिलों के दो पुलों को

जब-जब बर्फ़ीला-मौन
जम जाता है
माइनस डिग्री पर 
तब-तब
बर्फ़-सी जमी मौन के कणों को
अपनी ऊष्मा से
पिघलाती है
ध्वनि-मिश्रित साँसों की गर्मी

जब-जब अपाहिज-मौन
रुक जाता है-ठहर जाता है
चलने में होता है असमर्थ
तब-तब 
शब्दों की बैशाखी
थामकर मौन की ऊँगली
पग-पग आगे 
बढ़ाता है ज़बान तक

मित्रों ! तोड़ो मौन 
हमेशा ज़रूरी होता है
चट्टानी-मौन को तोड़ने के लिए
हथौड़े-संवादों का प्रहार।

— नरेन्द्र कुमार कुलमित्र
975585247

Leave A Reply

Your email address will not be published.