दूर संचार करेगा विकास का योग -अशोक शर्मा

इसे सुनेंविश्व दूरसंचार दिवस १७ मई को मनाया जाता है। यह दिन 17 मई 1865 को अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ की स्थापना की स्मृति में विश्व दूरसंचार दिवस के रूप में जाना जाता था। वर्ष1973 में मैलेगा-टोर्रीमोलिनोन्स में एक सम्मेलन के दौरान इसे घोषित किया गया।

कविता संग्रह
कविता संग्रह

दूरसंचार पर कविता



समय पुराने अतीत काल में,
दूर दराज के हाल चाल में,
चिट्ठी आती खुशियां लाती,
बहुत पुराना हाल बताती।


हाल चाल जब उधर से आवे,
बड़ी देर समाचार बतावे।
खबर मिले जब तुरंत हरसावे,
पर वो खबर बूढ़ी हो जावे।


फिर आया नव दूर संचार,
नए तरीके नया विचार।
पल भर में यह बात सुनावे,
कब कहाँ कैसे हैं बतलावे।


भाव दिलों के दूर से आवे,
अस लागे जैसे पास ही पावे।
देख देख मुखड़ा हँस हँस कर,
बात होती चिपक चिपककर।


और कुछ खास बातों में,
लिखकर होती रातों रातों में।
खोज एक से एक अनमोल,
मैसेज मिलने में कोई न झोल।


युग ऐसा तरक्की का आया,
सब कुछ पलमें द्वार है लाया।
अतिशय बुरा हर चीज का भाई,
यदि बिन सोचे दुरुपयोग हो जाई।


संयम से यदि करें उपयोग,
दूर संचार करेगा विकास का योग।।


★★★★★★★★★★★
अशोक शर्मा 17.05.21
★★★★★★★★★★★

You might also like