जननायक राम / श्रीमती ज्योत्स्ना मीणा

जननायक राम / श्रीमती ज्योत्स्ना मीणा

रचना विधा – कविता

shri ram hindi poem.j

जननायक है राम
सबके मनमंदिर के ,
जनपालक हैं राम
सबके जीवन पथ के ।

सदा हो प्रणिपात
श्री राम चरणों में ,
श्रद्धा और विश्वास
राम के आदर्शों में ।

अनूप उदाहरण हैं
राम मर्यादा बन के ,
पुरूषोत्तम हैं राम
हर जनमानस के ।

हो कितने भी दाग
भले ही धवल चंद्र में ,
राम रहे सदा ही
निष्कलंक जन मन मे ।

सागर तोड़ दे सीमा
हिम छोड़ी हिमगिरि ने
किंतु न तोड़ा विश्वास
जन जन का राम ने ।

रचयिता -श्रीमती ज्योत्स्ना मीणा

You might also like