KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

@चैत्र शुक्ल नवमी श्री राम नवमी पर हिंदी कविता

चैत्र शुक्ल नवमी श्री राम नवमी : रामनवमी का त्यौहार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी मनाया जाता है। हिंदू धर्मशास्त्रों के अनुसार इस दिन मर्यादा-पुरूषोत्तम भगवान श्री राम जी का जन्म हुआ था।

राम का आना -अजय विश्वकर्मा

राम का आना -अजय विश्वकर्मा बालक रूप में राम का आना,सतयुग में धरती का उद्धार कराना।अधर्मी निशाचरों का पाप मिटाया,संत महात्माओं का कल्याण कराया। अयोध्या के इक्ष्वाकुवंश का मान बढाया, संसार को मर्यादा का पाठ पढ़ाया ।श्रापित शिला बनी अहिल्या को मोक्ष दिलाया,निर्दोष पतिव्रता सती का कलंक मिटाया। जातपात ऊंच-नीच का भेद हटाया,सभी जीवों को अपना…
Read More...

रामनिवास बने अतिसुंदर

रामनिवास बने अतिसुंदर राम का राज आएगा फिर से कि,धीरज धार बनाए चलो सब।स्वप्न अधूरा होगा नहीं बाँधव,नींव डलेगी अवधपुर में अब।गाँव जगा है समाज जगा है,जगा है जहाँ सकल जग सारा।राम निवास बनायेंगे मिलकर हम,पुनित यह सौभाग्य हमारा।गिद्धराज जटायु को तारेबेर जूठे शबरी के खाए।लाज रखे मिताई की प्रभु नेसुग्रीव को है राज दिलाए।बन गिलहरी सब कर्म करेंगे,सेवक…
Read More...

मेरा मन लगा रामराज पाने को

मेरा मन लगा रामराज पाने को मेरा मन लागा रामराज पाने को ।तड़प रहा जन जन दाने-दाने को ।पलते रहे सब उद्योग धंधे ,ना हो सड़कें, चौराहे गंदे ।अवसर मिले ऐसा किऋणी हो ऋण चुकाने को ।अन्याय को मिले सजाविचरित हो सके स्वतंत्र प्रजा ।नौबत आए ना वो दिनकि शहीद हो जाए भुलाने को ।राम तेरी गंगा हो गई मैली ।चहुं दिक् पर भ्रष्टाचार फैली ।कैसे गर्वित शीश हो जग…
Read More...

अयोध्या मंदिर निर्माण

अयोध्या मंदिर निर्माण अवधपुरी भगवा हुई, भू-पूजन की धूम। भारतवासी के हृदय, आज रहे हैं झूम।। दिव्य अयोध्या में बने, मंदिर प्रभु का भव्य। सकल देश का स्वप्न ये, सबका ही कर्तव्य।। पाँच सदी से झेलते, आये प्रभु वनवास। असमंजस के मेघ छंट, पूर्ण हुई अब आस।। मन में दृढ संकल्प हो, कछु न असंभव काम। करने की ठानी तभी, खिला हुआ…
Read More...

राम नाम जपले रे मनवा गीत

राम नाम जपले रे मनवा गीत राम नाम जपले रे मनवा,निश दिन सांझ सबेरे।पल में सारे कट जायेंगे,जीवन के दुख तेरे। राम नाम जपती थी शबरी,मन में आस लगाये।फूल बिछाती रही राह में,राम प्रभू जी आये।उसके सिवा न कोई समझो, मानव जग में तेरे ।पल में सारे कट जायेंगे, जीवन के दुख तेरे।। द्रुपत सुता जब सभा बीच में,बेबस आन पड़ी थी।टेर लगाई आजा मोहन,कैसी विपद…
Read More...

मन में राम नाम नित जापे- कवयित्री अर्चना पाठक

मन में राम नाम नित जापे अवध पुरी आए सिय रामा।ढोल बजे नाचे सब ग्रामा।।घर-घर खुशहाली हर द्वारे। शिलान्यास मंदिर का प्यारे।।राम राज चहुँ दिशि है व्यापे। लोक लाज संयत सब ताके ।।राजधर्म सिय वन प्रस्थाना ।सत्य ज्ञान किंतु नहीं माना।।है अंतस सदा बसी सीता।रहे एकांत उर बिन मीता।।सुख त्याग सर्व कर्म निभावें।प्रजा सुखी निज दुख बिसरावें।।नरकासुर मारे…
Read More...

मेरे श्रीराम प्रकृति पूजा( श्रीराम जी पर कविता) -राजकुमार मसखरे

मेरे श्रीराम प्रकृति पूजा चैत्र शुक्ल श्री राम नवमी Chaitra Shukla Shri Ram Navami ~~~~~~~~~~~~~~~~~ओ मेरे प्रभु वनवासी रामआज पधारे अयोध्या धाम,चौदह वर्ष तक वन को घूमेअब करो अविरल आराम !निषाद राज गंगा पार करायेकंदमूल खा कर,सरिता नहाए,असुरों को राम तुम खूब संहारे ऋषिमुनियों को जो थे सताए !भूमि कन्या थी सीता माई शेष अवतारी लक्ष्मण…
Read More...

मेरे रामलला का राज हुआ -शिवराज चौहान

मेरे रामलला का राज हुआ-शिवराज चौहान *राम जन्म भू मंदिर पूजन,* *नव दिन का आगाज हुआ।**आज अयोध्या में फिर से,* *मेरे रामलला का राज हुआ।।*सदियां बीती इंतजार में, कब ऐसा दिन आएगा।जब मंदिर के गुरु शिखर पे, धर्म ध्वज फहराएगा।।आखिर केसरिया फिर से, हर हिंदू का सरताज हुआ...सुबक रही थी सरयू सरिता,…
Read More...