सीमा पर है जो खड़ा

सीमा पर है जो खड़ा
                         

सीमा पर है जो खड़ा ,
                          अपना सीना तान ।
उसके ही परित्याग से ,
                         रक्षित  हिंदुस्तान ।।
रक्षित    हिंदुस्तान ,
                   याद कर सब कुरबानी ।
करे शीश का दान ,
                    हिंद का अद्भुत दानी ।।
कह ननकी कवि तुच्छ ,
                    कहें सब अर्जुन भीमा ।
पराक्रमी शूर  शौर्य ,
                नहीं जिसकी बल सीमा ।।
                 रामनाथ साहू ” ननकी “
            मुरलीडीह , जैजैपुर ( छ.ग. )
कविता बहार से जुड़ने के लिये धन्यवाद

You might also like