KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Monthly Archives

अप्रैल 2021

बुरा वक्त भी गुजर जाएगा,कविता, महदीप जंघेल

बुरे वक्त में हमारा धैर्य और आत्मविश्वास हमे संबल प्रदान करती है। अतः आपातकाल में भी टूटना नही है। वक्त महान होता है। बुरा वक्त भी गुजर…

खुजली- मनीभाई नवरत्न (हिन्दी कविता)

खुजली- मनीभाई नवरत्न (1) मैं खोजता हूंकहां है मुझे खुजली ?मैं खुजाता रहता हूं ।कभी हाथ पैर, तो कभी सिर।इसका मतलब यह कतई नहीं किमुझे खुजली है या…

अंतः प्रेरणा

यह रचना उल्लाला छंद है जो अंतः प्रेरणा से संबंधित है। कवयित्री पद्मा साहू "पर्वणी" खैरागढ़ छत्तीसगढ़

कर्तव्य-बोध-रामनरेश त्रिपाठी

कर्तव्य-बोध -रामनरेश त्रिपाठी जिस पर गिरकर उदर-दरी से तुमने जन्म लिया है।जिसका खाकर अन्न सुधा सम नीर समीर पिया है। जिस पर खड़े हुए, खेले, घर…

प्रेम और सच्चाई-मनीभाई नवरत्न

प्रेम और सच्चाई -मनीभाई नवरत्न मैं तुमसे दूर हूं तो मतलब नहीं कितुमसे दूर हूं।है अब भी मेरे जेहन मेंउतना ही प्रेम जितना कि हुई थीजिस दिन तुमसे…

प्यार से दुश्मनी को मिटा दंगे हम– कविता – मौलिक रचना – अनिल…

इस कविता के माध्यम से कवि दुनिया से दुश्मनी को ख़त्म करना चाहता है और मुहब्बत से रहने को प्रेरित कर रहा है | प्यार से दुश्मनी को मिटा दंगे हम– कविता –…

मेरे गुरू – कविता – मौलिक रचना – अनिल कुमार…

इस रचना में कवि ने अपने गुरु की महिमा को शब्दों के माध्यम से पंक्तिबद्ध किया है | मेरे गुरू - कविता - मौलिक रचना - अनिल कुमार गुप्ता "अंजुम"

भारत है आने वाले कल का आगाज़ – कविता – मौलिक रचना…

इस रचना में हमारे महान देश भारत की सांस्कृतिक विशेषताओं की समाहित किया गया है | भारत है आने वाले कल का आगाज़ - कविता - मौलिक रचना - अनिल कुमार गुप्ता…

परीक्षा हॉल – कविता – मौलिक रचना – अनिल…

इस रचना के माध्यम से कवि परीक्षा हॉल में बैठे परिक्षार्थियों की मानसिक स्थिति की कल्पना को साकार करना चाहता है | परीक्षा हॉल - कविता - मौलिक रचना -…