KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR
Browsing Tag

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर कविता

पंजाब धरा का सिंह शूर

पंजाब धरा का सिंह शूर विधा-पदपादाकुलक राधेश्यामी छंद पर आधारित गीत। पंजाब धरा का सिंह शूर, फाँसी पर हंसकर झूल गया।बस याद उसे निज वतन रहा,दुनियादारी सब भूल गया। माँ की गोदी का लाल अमर,था गौरव पितु के मस्तक का।उस आँगन देहरी द्वार गली,है नमन तीर्थ के दस्तक का। था सृष्टा का वह अमर दीप, जिस पर दिनमणि भी झूम गया। थी वन्दनीय शुभ बेला…
Read More...

मेरे भारत देश है श्रेष्ठ गुणों की खान -मनोरमा चन्द्रा “रमा”

मेरे भारत देश है श्रेष्ठ गुणों की खान -मनोरमा चन्द्रा "रमा" मन में अभिलाषा भरी, सभी बने विद्वान। मेरे भारत देश है, श्रेष्ठ गुणों की खान।। शांति नाद गूँजे सदा, सबका हो अरमान। सत्य, अहिंसा मार्ग चल, वही श्रेष्ठतम जान।।रंग भेद को तज चलें, रखें मनुज समभाव। श्रेष्ठ कर्म नित कर…
Read More...

जब तक तन में प्रान

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस 15 August Independence Day करो लोकहित तुम मनुज जब तक तन में प्रान देश सदा उन्नति करे ,मन में लेना ठान ।करो लोकहित तुम मनुज ,जब तक तन में प्रान ।। है स्वतंत्र यह देश है ,बनो नहीं अंजान ।निर्भर होना छोड़ तू,इसकी बन पहचान ।। जाति-पाति के भेद से ,रहो सदा ही दूर ।एक देश के लाल हो ,होना मत मजबूर ।। देश तिरंगा नित…
Read More...

आजाद हिन्दुस्तान पर कविता

आजाद हिन्दुस्तान पर कविता ===================================आओ हम बुनियाद रखे, आजाद हिन्दुस्तान की |आओ हम जयगान करे, भारत के किसान की |चारो ओर फैला प्रदूषण, भारत माता कराह रही |स्वच्छ भारत अभियान चला,नदियों में भी राह नही |प्रकृति से करते खिलवाड़, मन में अब उत्साह नही |इस धरा को स्वर्ग बनाने, जय बोलो युवा संतान की |आओ हम बुनियाद रखे, आजाद…
Read More...

जो भारत मां के प्यारे हैं -शिवराज चौहान

जो भारत मां के प्यारे हैं -शिवराज चौहान *कलम तू बोल जय उनकी,* *जो भारत मां के प्यारे हैं।**वो सूरज हैं वो चंदा हैं,* *वो बलिदानी सितारे हैं।।*ये मिट्टी की ही खुशबू थी, उसी की थी वो मद मस्ती।उतारूं आज मैं कर्जा, लगी तब जिंदगी सस्ती।।उठाया भाल भारत का, स्वयं के शीश तारे हैं...पिलाया दूध…
Read More...