hindi tanka || हिंदी तांका
hindi tanka || हिंदी तांका

बिछोह पर कविता- मनीभाई

बिछोह पर कविता - मनीभाई" रात भर मैंसावन की झड़ी मेंसुनता रहाटपटप की आवाजपानी की बूंदें।बस खयाल रहाअंतिम विदापिया के बिछोह मेंगिरते अश्रुगीले नैनों को मूंदेपवन झोकेंसरसराहट सीलगती मुझेजैसे हो…

0 Comments