श्रावण शुक्ल पूर्णिमा रक्षाबंधन

मनीभाई के हाइकु अर्द्धशतक भाग 7

३०१/आज के नेताहै जनप्रतिनिधिनहीं सेवक। ३०२/है तू आजादबचा नहीं बहानातू आगे बढ़। ३०३/.मित्र में खुदाकरे निस्वार्थ प्रेमरिश्ता है जुदा। ३०४/ छाया अकालजल अमृत बिनधरा बेहाल। ३०५/ सांध्य सिताराशुक्र बन अगुआलड़े…

टिप्पणी बन्द मनीभाई के हाइकु अर्द्धशतक भाग 7 में

हिन्दी कविता : आया रक्षा बंधन का त्यौहार

आया जी आया रक्षा बंधन का त्यौहार ,भाई - बहनों का का प्यार का त्यौहार ,जीवन के जन्मों-जन्मों का साथ देती ,बहना भाई के जीवन को रक्षा करती , संसार…

0 Comments

राधा और मीरा

*_आखिर माताएं राधा और मीरा क्यों नहीं चाहती?_* एक विचार प्रस्तुत किया गया कि "हर माँ चाहती है कि उनका बेटा कृष्ण तो बने मगर कोई माँ यह नहीं चाहती…

0 Comments

आजादी का पर्व मनालो – बाबूलाल शर्मा बौहरा( aazadi ka parv mana lo)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabaharआजादी का पर्व मनालो।खूब तिरंगा ध्वज पहरालो।।संगत रक्षा बंधन आया।भ्रात बहिन जन मन हर्षाया।।१राखी बाँधो देश हितैषी।संविधान संसद सम्पोषी।।राखी बाँध तिरंगा रक्षण।राष्ट्र भावना बने विलक्षण।।२जन जन का अरमान…

0 Comments

भाई के कलाई में बांधने को प्यार से रक्षाबंधन

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar #manibhainavratna#RAKSHYABANDAN KAVITA #BHAI BAHAN RELATIONआई है बिटिया ,आई है बहना अपने घर आंगन।भाई के कलाई में बांधने को, प्यार से रक्षाबंधन।गूंजने लगी खुशियाँ,  चहुंदिक् अति मनभावन ।रिमझिम…

0 Comments

पर्यावरण-शतक(paryaavaran shatak)

 *पर्यावरण-शतक* 1..धरा गगन सब जग बना ,पर्यावरण विकार।मर्त्य कर्म अकर्म से, विपदा विविध प्रकार।।2..पर्यावरणन  गंदगी , होय  जगत   में  रोज।बल विद्या कम हो रही, घटता जावे ओज।।3..पेड़ लगाने  की…

0 Comments

शहीद दिवस विशेष

       "शहीद दिवस विशेष"       ===================वतन की हिफाजत के लिए त्याग दिए प्राण। तुमने आह!तक नहीं किये त्यागते समय प्राण।। सीने पर गोली खा के हो गये देश के लिए…

0 Comments

बेटी

??????????????~~~~~~~~~बाबूलालशर्मा*लावणी छंद*:-16,14 पर यतिदो पंक्तियाँ समतुकांत (अंत में लघु गुरु बंधन नहीं).         ?‍? *बेटी* ?‍?.               ????बेटी है अनमोल धरा पर,उत्तम अनुपम  सौगातें।सृष्टि नियंता मात् पुरुष की,ईश जनम जिससे पाते।????बेटी से…

0 Comments