KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

इंसान को कह दो कि तू तो शेर है(insan se kah di ki tu to sher hai)

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

——————–
इंसान को कह दो कि
तू तो शेर है
फिर देखना उनकी बाजूओं में
कितना जोर है !
गर कह दो कि
तू तो है जानवर
फिर कह उठेगा
तू तो गधा है
समझे मान्यवर !
अब जानवर मे
समझना है फर्क
इंसान होने का नाटक
करते रहो तर्क-वितर्क !
भई जानवर तो
जानवर होता है
पर नही कह सकते
सभी इंसान
इंसान भी होता है !
अब पशु भी
सभ्य-भद्र होने लगे
कथित इंसान की
इंसाननियत देख कर
वे भी रोने लगे !
मौका परस्त इंसान
मौका देख कर रंग बदलता है
और इधर ये पशु
अपना रंग बदलता है
न धर्म बदलता है
न अपनों से जलता है !
इंसान ये मूक,हिंसक पशु
शेर कहलाना गर्व समझता है
इधर मरियल सा भी कुत्ता
रामु,मोती का होना
उसे बहुत ‘अखरता’ है !
    —- *राजकुमार मसखरे*