KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

उड़ मेरी प्यारी तितली इस फूल से उस फूल(ud meri pyari titli is phool se us phool)

#poetryinhindi,#hindikavita, #hindipoem, #kavitabahar#butterfly
उड़ मेरी प्यारी तितली इस फूल से उस फूल।
देखो मेरी न्यारी तितली किसी को ना जाना भूल ।
वरना टूट जाएगा कोई फूल मुरझा के।
सब को खुश रखना यूं ही मुस्कुरा के।
जो भी आए सामने करना उसे कबूल ।
देखो मेरी प्यारी तितली किसी को ना जाना भूल।
सबको होती तुम्हारी चाहत
सबके लिए हो तुम एक जरूरत ।
ध्यान से अपना पंखा चलाना चुभे ना कोई शूल।
देखो मेरी न्यारी तितली किसी को न जाना भूल।
उड़ उड़ कर बागों  की तुम रखवाली करना।
फूलों की देखभाल कर तुम  माली बनना ।
अपने रंगों के साथ फूलों के रंगों में घुल।
देखो मेरी न्यारी तितली किसी को न जाना भूल
मनीभाई ‘नवरत्न’, छत्तीसगढ़,