KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

गंगाधर मनबोध गांगुली “सुलेख “

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

?? वक़्त के मारा हुआ ,मैं एक इंसान हूँ ।??
                    गंगाधर मनबोध गांगुली “सुलेख “
                         समाज सुधारक , युवा कवि
                                9754217202
इस दुनियाँ में यारों ,हर कोई वक़्त का मारा हुआ इंसान है । चाहे गरीब हो या अमीर ,वक़्त किसी को साथ नहीं देता । हर किसी को अपने जीवन में संघर्ष करना पढ़ता है । अगर मैं कहता हूँ कि आप वक़्त के मारे हुए इंसान हो, तो आपको
बहुत ही गलत लगेगा । इसलिए इस कविता में मैं अपना उदाहरण देकर वक़्त के मारा हुआ ,इंसान की हालत बताता हूँ ।
वक़्त के मारा हुआ ,
                                    मैं एक इंसान हूँ ।
जिन्दगी से आज भी ,
                                   बहुत परेशान हूँ ।।01।।
वक़्त ने मुझे ऐसे मारा ,
                        गिनने लगा आसमान का तारा ।
वक़्त ने मुझे साथ न दिया ,
                        हो गया हूँ एक आवारा ।।02।।
आप लोगों की तरह सोचा था मैं भी ,
                                कुछ करके दिखाऊँगा ।
इस दुनियाँ में मैं भी ,
                         कुछ बनके दिखाऊँगा ।।03।।
मेहनत मैंने भी किया ,
                   लेकिन ,वक़्त ने मुझे साथ न दिया ।
मैं कुछ पल के लिए हर गया ,
                         लेकिन वक़्त जीत गया ।।04।।
मेहनत करके भी मैंने ,
                               बहुत कुछ खोया है ।
जिस दिन मेरी हार हुई ,
                            उस दिन बहुत रोया है ।।05।।
लेकिन मुझे पूर्ण विश्वास है आज भी…..
एक दिन ऐसा आएगा,
                                  वक़्त भी हार जाएगा ।
आज का मेरा मेहनत मुझे,
                          मंजिल तक पहुँचायेगा ।।06।।
उस दिन का इंतजार है ,
                               कहीं देर न हो जाये ।
मेरे जीवन में हमेशा के लिए,
                          कहीं अँधेर न हो जाये ।।07।।
वक़्त ऐसा आएगा ,
                           परिवर्तन साथ में लाएगा ।
न जाने कितने लोग हैं ,इस दुनियाँ में मेरी तरह,उन सभी दोस्तों से मैं यही कहूँगा ।
वक़्त ऐसा आएगा ,
                           परिवर्तन साथ में लाएगा ।।
वक़्त के मारा हुआ इंसान भी,
                     एक नया जिन्दगी पाएगा। ।।08।।
हर किसी के जीवन में…..
एक दिन ऐसा आएगा,
                          वक़्त भी ठहर जाएगा ।
जो जैसा कर्म करेगा,
                        वह वैसा फल पाएगा ।।09।।
                              06
—————————————————————