KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

चादर जितने पांव पसारो – राकेश सक्सेना

इंसान को हैसियत को समझ कर ही कार्य करना चाहिए
चादर जितने पांव पसारो घर घर की कहानी

0 64

चादर जितने पांव पसारो – राकेश सक्सेना

अभिलाषा और ईर्श्या में,
रात-दिन सा अंतर जानो तुम।
अभिलाषा मजबूत रखो,
ईर्श्या से दिल ना जलाओ तुम।।

चादर जितने पांव पसारो,
पांव अपने ना कटाओ तुम।।
अपनी मेहनत से चांद पकड़ो,
उसे नीचे ना गिराओ तुम।

“उनके घर में नई कार है,
मेरा स्कूटर बिल्कुल बेकार है”।
“एयर कंडीशंड घर है उनका,
अपना कूलर, पंखा भंगार है”।।

“उनका घर माॅर्डन स्टाईल का,
अपना पुराना खंडहर सा है”।
“वो पार्लर, किटीपार्टी जाती,
मेरा जीवन ही बेकार है”।।

ये बातें जिस घर में होती,
वहां अज्ञान अंधेरा है।
चादर जितने पांव पसारो,
वहीं शांति का डेरा है।।

राकेश सक्सेना, बून्दी, राजस्थान
9928305806

Leave A Reply

Your email address will not be published.