KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

जीवन की है परिभाषा कविता(poetry is the definition of life)

अक्षर अक्षर भावों से  गुंजित
कल्पना की मिठास है कविता
कवि मन की मर्म अभिव्यंजना
मृदु निर्झरित एहसास है कविता l
सुख दुख से परिपूर्ण जीवन की
शब्द शक्ति की आशा है कविता
रवि किरणों से भी सशक्त है ये
जीवन की है परिभाषा कविता l
मन  हृदयभाव उद्गारों की  निधि
कपोल कल्पित स्मित है कविता
मरु को  भी  मधुमय  कर दे जो
कवि मेधा से सृजित है  कविता l
हंसी, रुदन, मिलन, बिछोह की
विविध अभिव्यंजना है कविता
जीवन के हर  क्षेत्र, विषय  की
जीवंत जागृत कल्पना है कविता l
समय के एकाकीपन लम्हों में
सबसे निकट परम साथी कविता
ख़ुशी, उमंग, उत्सव  के  पलों  में
जीवन को सरस बनाती कविता l
अज्ञानता, जड़ता  के  जगत  में
रोशनी का दीप जलाती  कविता
कवि  के छंद बंद अलंकारों को
सुंदर शब्दों में सजाती कविता l
कल्पना के अलौकिक संसार से
कागज़ पर उतरती  है कविता
मुरझाये निराश द्रवित मन में भी
ऊर्जा का संचार करती है कविता l
ईश्वर  प्रदत्त यह  कवित्व शक्ति 
कवि की पहचान कराती कविता
कोमल एहसासों की थाती यह
तम में नव विहान लाती कविता l
माँ वीणावादिनी का वरदान  ये
पंक में खिलता कमल है कविता
भावों की अभिव्यक्ति ये कवि की
शायर की मधुर गज़ल है कविता l
कुसुम लता पुन्डोरा 
आर के पुरम
नई दिल्ली