KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

नव वर्ष की बधाई-बधाई

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

नव वर्ष की बधाई-बधाई
नव वर्षारंभ पर
मिट जाए सारे कलंक,
हो जायें जुदाई-जुदाई
नव वर्ष की बधाई-बधाई
बज उठी उमंग बिगुल,
अंतरपट की है वफाई।
जिन्दगी जन्नत सी हो,
न हों कोई हरजाई…
नव वर्ष की बधाई-बधाई
दसों दिशाओं से मिले,
सफल प्रखर मधुराई।
मधुर-मधुर जीवन पथ,
बनी रहे सुखदाई…
नव वर्ष की बधाई-बधाई
अनुपम आप जगत के,
न हो कभी तन्हाई ।
सुखद के पीहूर और
विजयी के बजे शहनाई…
नव वर्ष की बधाई-बधाई
नव वर्षारंभ पर
मिट जाए सारे कलंक,
हो जायें जुदाई-जुदाई
नव वर्ष की बधाई-बधाई
जगत नरेश