KAVITA BAHAR
SHABDON KA SHRIGAR

“परिचय एक नये अंदाज में ”      

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

“परिचय एक नये अंदाज में “
                   गंगाधर मनबोध गांगुली “सुलेख “
                      समाज सुधारक ,युवा कवि
हर चीज का एक कला है ,पढ़ने का, लिखने का, सोचने का, और समझने का ।हर इंसान का अपना अलग अन्दाज होता है ।मैंने सोचा क्यों न परिचय देने का भी ,एक नये अन्दाज होना चाहिए ? आप लोगों के सामने प्रस्तुत है :—-
           “परिचय एक नये अन्दाज में “
             अंदाज अपना अपना ।
नाम है मेरा गंगाधर गांगुली ,
                               ग्राम है आँवला चक्का ।
क्रिकेट खेलने जाने पर ,
                  मरता हूँ चौका और छक्का ।।01।।
पोस्ट मेरा रोहिना है ,
                      विकास खण्ड -सरायपाली ।
चौका- छक्का मारने पर,
                               लोग बजाते हैं ताली ।।02।।
जिला मेरा महासमुन्द है,
                               राज्य छत्तीसगढ़ ।
दुनियाँ के लोगों को कहता हूँ
                                 मत रहो अनपढ़ ।।03।।
जब शिक्षित हो जाओगे, तो आपका शोषण नहीं होगा ।एक रोटी काम खाओ , लेकिन अपने बच्चों को जरूर बढ़ाओ ।
पिन कोड है, चार नौ तीन पांच पांच आठ ,
                       और मैं हूँ छत्तीसगढ़ का वासी ।
मेरा जन्म तिथि है दोस्त ,
               दो मई सन उन्नीस सौ चौरासी ।।04।।
इंसानियत  को मैं मानता हूँ
                                 मैं हूँ भारतवासी ।
कोई भी अच्छा काम करे ,
                        उसे देता हूँ शाबासी ।।05।।
घर मेरा मंदिर है ,क्योंकि मेरे माँ-बाप से बढ़कर न कोई देवी है न कोई देवता ।बाहर मेरा स्कूल है ,जहाँ से कुछ न  कुछ  सीखते रहता हूँ ।
घर मेरा मन्दिर है ,
                            बाहर मेरा स्कूल ।
माँ – बाप मुझे कहते हैं ,
                    अपने फर्ज को मत भूल ।।06।।
इस दुनियाँ में यारों,
                   कोई किसी से कम नहीं ।
जो इंसान अपने आपको कमजोर समझता है ,वह कभी आगे नही बढ़ सकता ।किसी भी क्षेत्र में -चाहे जाति और धर्म ही क्यों न हो ।
इस दुनियाँ में यारों ,
                          कोई किसी से कम नहीं ।
इस लिए गंगाधर गांगुली कहता है ,
               मैं किसी कवि से कम नहीं ।।07।।
किसी न किसी बात पर ,
                          यहाँ हर कोई महान है ।
आप लोग भी महान हो ,और मैं भी महान हूँ ।
किसी न किसी बात पर ,
                          यहाँ हर कोई महान है ।
कोई पढ़ने में कोई लिखने में,
                     कोई सोचने में भगवान है ।।08।।
मुझसे संपर्क करने के लिए, मेरा मोबाइल नंबर है,
सन्तानबे पांच सौ बयालीस ,
                                          सत्रह दो सौ दो ।
मेरा सिद्धान्त है दोस्त ,
                  जीओ और जीने दो ।।09।।
माँ-बाप मुझे कहते हैं ,
                           बेटा लिख ऐसा लेख ।
हर कोई कहने लगे,
                          युवा कवि सुलेख ।।10।।
सबका मालिक एक है ,
                                 एक है भगवान ।
सिर्फ कहने में अच्छा लगता है ,यहाँ तो हर जगह जाति ,और धर्म की लड़ाई है ।मानवता और इंसानियत बहुत कम देखने को मिलते हैं ।
सबका मालिक एक है ,
                         एक है भगवान  ।
आप सभी को यारों ,
                    गंगाधर गांगुली का प्रणाम।।11।।
                            05
———————————